Baidyanath (Nagpur) Yogendra Ras (10tab)

  • Home
  • Baidyanath (Nagpur) Yogendra Ras (10tab)
shape1
shape2
shape3
Baidyanath (Nagpur) Yogendra Ras (10tab)

डायबिटीज

कारण

  • डायबिटीज का पारिवारिक हिस्ट्री
  • ज्यादा भार या मोटापा
  • अग्नाशयशोथ
  • आनुवंशिक कारक
  • पॉलीसिस्टिक अंडाशय बिमारियों वाली स्त्रियों में हार्मोनल ( hormonal ) इम्बैलेंस ( असंतुलन )

लक्षण

  • बढ़ी हुई भूख और तृष्णा
  • मूत्र करने की बेकाबू चाह
  • थकान और धुंधली नजर
  • टांगों या हाथों में सुन्नपन / सनसनाहट
  • थकान और निर्बलता
  • ज़ख्म जो सरलता से नहीं भरते

NameBaidyanath (Nagpur) Yogendra Ras (10tab)
BrandBaidyanath (Nagpur)
MRP₹ 1620
Categoryआयुर्वेद ( ayurveda ), रास और सिंदूर
Sizes5टैब, 10टैब
Prescription RequiredNo
Length6.1 सेंटिमीटर
Width2.7 सेंटिमीटर
Height6.1 सेंटिमीटर
Weight10 ग्राम
Diseasesडायबिटीज

About Baidyanath Yogendra Ras

योगेंद्र जूस शुद्ध ( pure ) सोने और मोती से समृद्ध होता है जिसमें पुष्टिकारक, परिवर्तनकारी, कार्डियोटोनिक और उत्तेजक चाल-चलन होती है। योगेंद्र जूस का उपयोग स्नायु-पेशीय परिस्थितियों के ट्रीटमेंट ( treatment ) में भी किया जाता है। इसमें नेचुरल जड़ी-बूटियां, शुद्ध ( pure ) खनिज और धातुएं हैं जो अनेक पित्त विकृतियों का उपचार कर सकती हैं। योगेंद्र जूस एक शानदार उत्प्रेरक है जब सह-अभिनय औषधि के साथ दिया जाता है। यह वयस्कों में ब्लीडिंग विकृतियों, लैंगिक ( genital ) दुर्बलताओं और हाज़मा प्रॉब्लम्स में सहायक हो सकता है। योगेंद्र जूस का इस्तेमाल स्नायु-पेशीय परिस्थितियों के प्रबंधन में भी किया जाता है।

Indications/Uses of Baidyanath Yogendra Ras

  • बहुमूत्र (पोल्यूरिया), प्रमेह (पेशाब डिसऑर्डर)
  • वातरोग (वात त्रुटि के कारण होने वाला बीमारी)
  • अपस्मार (मिरगी ( epilepsy )), हिस्टीरिया (बहुत या बेकाबू मनोवृत्ति)
  • घुमेरी ( dizziness ) आना (घुमेरी ( dizziness ) आना ऐसा महसूस होना जैसे सब कुछ घूम रहा हो या घूम रहा हो)
  • Paraplegia (बॉडी ( body ) के निम्न आधे हिस्से का पक्षाघात)
  • भगंदरा (फिस्टुला-इनानो), अर्शा (पाईल्स ( बवासीर ))
  • वातपित्त बीमारी (वात त्रुटि और पित्त त्रुटि के कारण होने वाला बीमारी)
  • Mutraghata (पेशाब रुकावट)
  • गुडा रोगा (एनोरेक्टल बीमारी)
  • मुर्चा (सिंकोप)
  • उन्मादा (उन्माद / मनोविकृति)
  • यक्ष्मा (क्षय बीमारी)
  • Kshin indriya (Impaired senses)
  • कोलिकी पीड़ा, अमलपिट्टा (बदहजमी)
  • कोरोनरी आर्टरी डिजीज ( disease ), हृदय की निर्बलता को दूर करता है, धड़कनें
  • सब के सब तरह की नर्व रिलेटिव कमजोरी, जॉइंट्स के बीमारी

Ingredients of Baidyanath Yogendra Ras

  • सिंदूर का स्वाद ( taste ) (परदा)
  • Svarna bhasma 
  • Kantaloha bhasma (Lauha) 
  • अभ्रा (अभ्रका) बासो
  • Mauktika (Mukta) bhasma
  • वंगा भस्म:
  • Kumari ras
  • यह हृदय को ताकत देता है।
  • यह प्रमेह समेत अनेक तरह के बिमारियों को दूर करता है।
  • यह शिराओं को शक्ति देता है, और शुक्राणु डिसऑर्डर, रात्रि का गिरना, शुक्राणुओं का पतला होना, शीघ्रपतन को दूर करता है।
  • यह एक टॉनिक है जो शक्ति और रिप्रोडक्शन योग्यता को बढ़ाता है।
  • यह हाज़मा में इम्प्रूवमेंट करता है।
  • यह वात-पित्त त्रुटि के कारण होने वाले पक्षाघात में स्पेशल रूप से सहायक है।

Dosage of Baidyanath Yogendra Ras

  • 2 दवाइयां दिन में दो बार या डॉक्टर के निर्देशानुसार लें।

Precautions of Baidyanath Yogendra Ras

  • शिशुओं की पहुंच से दूर रखें।
  • स्व-औषधि की सिफारिश नहीं की जाती है।
  • ठंडी और सूखी जगह पर स्टोर ( store ) करें।
  • बोतल के ढक्कन को कसकर बंद करके रखें।
  • औषधि को मूल पैकेज और पात्र ( container ) में रखें।